Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
Search :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in Hindi
National Emblem of India

About Us

IR Personnel

News & Recruitment

Tenders & Notices

Vendor Information

Public Services

Contact Us

 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
08-12-2023
सौर मिशन एनसीआर-2023-24

सौर मिशन एनसीआर-2023-24

वित्तीय वर्ष 2023-24 के पहले सात माह में उत्तर मध्य रेलवे द्वारा सौर ऊर्जा से 78.8 लाख यूनिट बिजली उत्सर्जित
सौर ऊर्जा के उपयोग से पहले छह माह में रु 3.27 करोड़ की शुद्ध राजस्व बचत
इस दौरान  6622 मीट्रिक  टन कार्बन उत्सर्जन में कमी
सौर मिशन पर राष्ट्रीय पहल के अनुसरण में, उत्तर मध्य रेलवे (उत्तर मध्य रेलवे) ने सौर ऊर्जा उत्पादन को सर्वोच्च प्राथमिकता दी है। महाप्रबंधक उत्तर मध्य रेलवे श्री सतीश कुमार के मार्ग निर्देशन में एवं प्रधान मुख्य बिजली इंजीनियर श्री अनूप कुमार अग्रवाल के नेतृत्व में के. एम. सिंह मुख्य बिजली इंजिनियर /ई .ई .एम और बिजली विभाग की उनकी टीम द्वारा उत्कृष्ट रख-रखाव, सौर ऊर्जा संयंत्र के संचालन की सघन  मॉनिटरिंग और सौर मिशन-2021-22 के तहत किये गए अभिनव प्रयासों के कारण, वर्ष 2022-23 में उत्तर मध्य रेलवे में सौर संयंत्रों की उत्पादकता सभी जोनल रेलवे में सबसे अधिक थी। पिछले, वित्तीय वर्ष में, सौर ऊर्जा का उपयोग करके 125 लाख यूनिट ऊर्जा उत्पन्न कर रु 5.2 करोड़ की बचत की गई।
इसी गति को जारी रखते हुए वर्तमान वित्तीय वर्ष 2023-24 के पहले सात माह (अप्रैल-अक्टूबर) में उत्तर मध्य रेलवे द्वारा 78.8 लाख यूनिट बिजली का उत्पादन किया गया है। यह न केवल पर्यावरण संरक्षण के एक बड़े लक्ष्य की ओर एक कदम है, इससे राजस्व में भी पर्याप्त बचत हुई है। इस प्रकार सौर ऊर्जा के उपयोग से रुपये 3.27 करोड़ की शुद्ध राजस्व बचत दर्ज की गई है।
उत्तर मध्य रेलवे की कुल स्थापित क्षमता 11.13 मेगावाट है। इसमें से  185 के ड्ब्ल्यू पी  रेलवे द्वारा स्थापित किया गया है, शेष 10949 के ड्ब्ल्यू पी  क्षमता दो प्रमुख सौर ऊर्जा डेवलपर्स (SPD) Azure और ReNew द्वारा PPP आधार पर स्थापित की गई है।
स्टेशन भवन, कारखाने, ट्रेनिंग विद्यालय, अस्पताल, मेमू कार शेड, महाप्रबंधक कार्यालय और मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय भवन आदि प्रमुख स्थानों पर रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाए गए हैं ।
इस वर्ष सौर ऊर्जा का उपयोग करके उत्तर मध्य रेलवे द्वारा कार्बन उत्सर्जन में लगभग 6622 मीट्रिक  टन की कमी की गई है।
सौर संयंत्रों के प्रदर्शन का एक महत्वपूर्ण पैरामीटर  कैपेसिटी यूटिलाइजेशन फैक्टर (सीयूएफ) है। उत्तर मध्य रेलवे के सौर पैनलों ने वर्ष के दौरान 13.8% का सीयूएफ दर्ज किया है ।
सौर ऊर्जा के प्रयोग के संवर्धन के लिए सौर संयंत्रों के रखरखाव को अत्यधिक महत्व दिया जा रहा है। इसके लिए उठाए गए कुछ कदम इस प्रकार हैं:
• प्रत्येक संयंत्र के लिए इनवर्टर वार सौर ऊर्जा उत्पादन की निगरानी की जा रही है।
• ऊर्जा और सीयूएफ% संयंत्रों की मासिक के स्थान पर दैनिक मॉनिटरिंग की जा रही है।
• छत की मरम्मत, इनवर्टर, केबल आदि के कारण खराब/विघटित संयंत्रों को ठीक किया गया है।
• सौर पैनलों की गुणवत्तापूर्ण सफाई पर ध्यान केंद्रित किया गया है।
• सौर्य संयंत्रो के निकट सूर्य की किरणों को अवरोधित करने वाले पेड़ों की छंटाई।
• अनुरक्षण कर्मचारियों की ट्रेनिंग और संवेदीकरण के लिए 25 प्वाइंट सोलर मिशन रेडी रेकनर सचित्र रूप में जारी किया गया।
• हिंदी में 25 विषयों पर तकनीकी और व्यावहारिक उपयोगी वीडियो क्षेत्रीय पर्यवेक्षकों के ज्ञानवर्धन के लिए जारी किए गए हैं।
• ऊर्जा और अन्य महत्वपूर्ण डेटा के व्यवस्थित प्रलेखन और मॉनिटरिंग के लिए एस.एस.ई को सोलर डायरी की प्रणाली की शुरुआत की गई।
महाप्रबंधक उत्तर मध्य रेलवे श्री सतीश कुमार ने इस उपलब्धि के लिए अधिकारियों और कर्मचारियों की टीम को बधाई दी और कुल गैर-कर्षण विद्युत ऊर्जा खपत में सौर ऊर्जा की हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए एक केंद्रित दृष्टिकोण अपनाने का आह्वान किया। 
चालू वित्त वर्ष में 1.34 MWp सौर संयंत्र स्थापित करने का लक्ष्य रखा गया है। जिसमे प्रयागराज मंडल 0.75 मेगावाट, झांसी 0.4 मेगावाट और आगरा मंडल 0.19 मेगावाट की क्षमता वृद्धि करेंगे। इसमे प्रयागराज मंडल द्वारा टुंडला स्टेशन पर 150 kWp तथा MDDTI कानपुर पर 250 kWp लगाया जा चुका है, बाकि स्थानों पर सोलर प्लांट्स दिसंबर 2023 तक लगने की उम्मीद है। इन नए सोलर प्लांट्स लगने पर एनसीआर की  कुल सोलर पॉवर प्लांट क्षमता 12.47 MWp हो जाएगी I
अप्रैल-अक्टूबर 2023 के बीच रेलवे सौर संयंत्रों का क्षेत्रवार प्रदर्शन। 
प्रयागराज क्षेत्र : 
1.कुल स्थापित क्षमता - 1771 के ड्ब्ल्यू पी 
2.लोकेशन : प्रयागराज स्टेशन , नैनी स्टेशन , प्रयागराज छिवकी स्टेशन, मेला शेड, महाप्रबंधक कार्यालय, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय एवं केंद्रीय चिकित्सालय 
3.सौर ऊर्जा उत्सर्जित : 1308802 के ड्ब्ल्यू एच    
4.रेवेन्यू बचत : रु   4481629.00
5.कार्बन फुट प्रिंट में कमी : 1099 टन 
कानपुर परिक्षेत्र : 
1.कुल स्थापित क्षमता – 949.6 के ड्ब्ल्यू पी 
2.लोकेशन : कानपुर सेंट्रल, मेमू शेड, इलेक्ट्रिक लोको शेड, इलेक्ट्रिक ट्रेनिंग सेंटर, रनिंग रूम, सीट स्कूल एवं हॉस्टल , न्यू कोचिंग कॉम्प्लेक्स एवं अधिकारी विश्राम गृह 
3.सौर ऊर्जा उत्सर्जित : 637282 के ड्ब्ल्यू एच    
4.रेवेन्यू बचत: रु   2138560.00
5.कार्बन फुट प्रिंट में कमी : 535 टन 
अलीगढ़ परिक्षेत्र : 
1.कुल स्थापित क्षमता - 182 के ड्ब्ल्यू पी 
2.लोकेशन : अलीगढ़ जं 
3.सौर ऊर्जा उत्सर्जित : 140701 के ड्ब्ल्यू एच    
4.रेवेन्यू बचत: रु   438987.00
5.कार्बन फुट प्रिंट में कमी : 118 टन 

टूंडला परिक्षेत्र : 
1.कुल स्थापित क्षमता - 350 के ड्ब्ल्यू पी 
2.लोकेशन : टूंडला जं 
3.सौर ऊर्जा उत्सर्जित : 220178 के ड्ब्ल्यू एच    
4.रेवेन्यू बचत: रु   686957.00
5.कार्बन फुट प्रिंट में कमी : 185 टन 
झांसी परिक्षेत्र: 
1.कुल स्थापित क्षमता -  331.1 के ड्ब्ल्यू पी   लोकेशन : मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय , रेल चिकित्सालय एवं इलेक्ट्रिक लोको शेड 
2.सौर ऊर्जा उत्सर्जित : 243915 के ड्ब्ल्यू एच    
3.रेवेन्यू बचत: रु   809798.00
4.कार्बन फुट प्रिंट में कमी : 205 टन 
आगरा परिक्षेत्र : 
1.कुल स्थापित क्षमता – 1034.9 के ड्ब्ल्यू पी 
2.लोकेशन : आगरा कैंट, आगरा फोर्ट स्टेशन, रेल चिकित्सालय, रनिंग रूम, ईदगाह स्टेशन, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय एवं सिक लाइन  
3.सौर ऊर्जा उत्सर्जित : 823505 के ड्ब्ल्यू एच   
4.रेवेन्यू बचत: रु   3407325.00
5.कार्बन फुट प्रिंट में कमी : 692 टन 
मथुरा परिक्षेत्र :
1.कुल स्थापित क्षमता - 383 के ड्ब्ल्यू पी 
2.लोकेशन : मथुरा जं एवं द्वितीय प्रवेश द्वार 
3.सौर ऊर्जा उत्सर्जित : 269206 के ड्ब्ल्यू एच    
4.रेवेन्यू बचत: रु   1127973.00
5.कार्बन फुट प्रिंट में कमी : 226 टन 

ग्वालियर परिक्षेत्र :
1-कुल स्थापित क्षमता - 675.2 के ड्ब्ल्यू पी 
2-लोकेशन : ग्वालियर स्टेशन (640 के ड्ब्ल्यू पी ) एवं बिरलानगर स्टेशन  (35.2 के ड्ब्ल्यू पी )
3-सौर ऊर्जा उत्सर्जन : 380562 के ड्ब्ल्यू पी 
4-रेवेन्यू बचत: रु    1092213.00
5-कार्बन उत्सर्जन में कमी :  320 टन

Solar Mission NCR -2023-24

NCR generates 78.8 lacs units of energy using solar power in first seven months of the financial year 2022-23.
Net revenue saving of 3.27 crores achieved in 6 months through the use of solar energy.
This has led to a reduction of 6622 metric tonnes of carbon emissions.
In line with National initiative o­n Solar Mission, North Central Railway (NCR) has attached top priority to solar energy generation in the able leadership of GM/NCR Shri Satish Lumar.  Under the guidance of Shri A K Agrawal PCEE/NCR the due to excellent upkeep, very close monitoring of operations of solar power plant & numerous innovative steps taken under Solar Mission-2022-23 by Shri K.M.Singh, CEE/EEM, alongwith his team and, NCR generated 125 lacs units of electricity using solar power and a net revenue saving of Rs. 5.2 crores in FY 2022-23.
Continuing the momentum this FY 2023-24 from April to October too, 78.8 lacs units of electricity has been generated by NCR in the first seven months of economy. Not o­nly it’s a big leap towards a larger goal of environment protection as solar energy is a greener source of energy, it has led to substantial savings in revenue too. Net revenue saving of Rs 3.27 crore has thereby recorded through the usage of solar power.  
NCR has a total installed capacity of 11.13 MWp. While 185 kWp has been installed by the Railway, remaining 10949 kWp capacities has been installed by two major Solar Power Developers (SPD) Azure and ReNew o­n a PPP mode. 
Among the major places where roof top solar plants have been installed are station buildings, workshops, training schools, GM office and DRM office buildings.
6622 metric tons of reduction in carbon emissions has been achieved by NCR using solar power in these seven months. 
Productivity of solar plants is measured in terms of Capacity Utilization Factor (CUF). NCR solar panels have recorded a CUF of 13.8 % during April-Oct 2023.

In order to promote solar energy, utmost importance is being given to maintenance of solar plants. Some of the steps taken are:
•Monitoring of Solar Energy generation is being done for each plant, inverter wise.
•Daily monitoring, instead of monthly, of Energy & CUF% of plants is being done.
•Defective/Decommissioned plants due to roof repairs, inverters, cables, etc have been put right.
•Focused attention  for quality cleaning of solar panels
•Tree trimming in shadow affected zones.
•25 points Solar Mission ready reckoner in pictorial form issued for education & sensitization of maintenance staff.
•Technical & practical useful educational videos o­n 25 topics in HINDI have been issued to field supervisors for enhancing their knowledge.
•Solar Diary introduced to SSEs for systematic documentation & focussed monitoring of energy & other important data in a structured manner.
GM NCR Shri Satish Kumar has congratulated the team of officers and staff for sustaining the momentum in this field and has called for adopting a focussed approach for augmenting the share of solar energy in its total non-traction electrical energy consumption. 
1.34 MWp of Roof Top Solar plants will be installed by NCR in the current financial year. Prayagraj Division will be installing 0.75 MWp of solar plants while Jhansi and Agra divisions will add 0.4 and 0.19 MWp to the existing capacity respectively. These roof top solar plants are expected to be commissioned at various locations like railway stations, office/service buildings by December 2023.
Area wise performance of Railway solar plants between April-Oct. 2023
Prayagraj area: 
6.Total Installed capacity- 1771 kWp
7.Locations: Prayagraj station, Naini station, Prayagraj Chheoki station, Mela shed, GM office, DRM office and Central Hospital
8.Solar energy generated : 1308802 kWh  
9.Revenue saved: Rs 4481629.00
10.Reduction in carbon footprints: 1099 tonnes

Kanpur area: 
6.Total Installed capacity- 949.6 kWp
7.Locations: Kanpur Central, MEMU Shed, Electric loco shed, Electric training centre, Running rooms, CETA school and hostel, new coaching complex and officers rest house
8.Solar energy generated : 637282 kWh  
9.Revenue saved: Rs 2138560.00
10.Reduction in carbon footprints: 535 tonnes
Aligarh area: 
6.Total Installed capacity- 182 kWp
7.Locations: Aligarh junction 
8.Solar energy generated : 140701 kWh  
9.Revenue saved: Rs 438987.00
10.Reduction in carbon footprints: 118 tonnes
Tundla: 
6.Total Installed capacity- 350 kWp
7.Location: Tundla Junction
8.Solar energy generated : 220178 kWh  
9.Revenue saved: Rs 686957.00
10.Reduction in carbon footprints: 185 tonnes
Jhansi area: 
5.Total Installed capacity-  331.1 kWp  Locations: DRM office, Railway Hospital and Electric Loco shed
6.Solar energy generated : 243915 kWh  
7.Revenue saved: Rs 809798.00
8.Reduction in carbon footprints: 205 tonnes

Agra area: 
6.Total Installed capacity- 1034.9 kWp
7.Locations: Agra Cantt, Agra Fort station , Railway Hospital, running room, Idgah station, DRM office and sick line 
8.Solar energy generated : 823505 kWh 
9.Revenue saved: Rs 3407325.00
10.Reduction in carbon footprints: 692 tonnes
Mathura area:
6.Total Installed capacity- 383 kWp
7.Locations: Mathura Jn and Second entry gate
8.Solar energy generated : 269206Kwh  
9.Revenue saved: Rs 1127973.00
10.Reduction in carbon footprints: 226 tonnes

Gwalior area:
6-Total installed capacity- 675.2 kWp
7-Locations: Gwalior station (640 KWP) and Birlanagar station (35.2 kwp)
8-Solar energy generated: 380562 kWp
9-Revenue saved : Rs  1092213.00
10-Reduction in carbon emissions:  320 tonnes




  Admin Login | Site Map | Contact Us | RTI | Disclaimer | Terms & Conditions | Privacy Policy Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2016  All Rights Reserved.

This is the Portal of Indian Railways, developed with an objective to enable a single window access to information and services being provided by the various Indian Railways entities. The content in this Portal is the result of a collaborative effort of various Indian Railways Entities and Departments Maintained by CRIS, Ministry of Railways, Government of India.