Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

भारतीय रेलवे कार्मिक

समाचार एवं भर्ती

निविदाओं और अधिसूचनाएं

प्रदायक सूचना

जनता सेवा

हमसे संपर्क करें

Covid-19
IGOT- Training Videos from IGOT
Important updates from MoHFW
महाप्रबन्धक प्रेस मीडिया की नज़र से
उपलब्धियां
समाचार एवं घोषणाएं
प्रेस विज्ञप्ति
भर्ती
झाँसी मण्डल में अप्रेंटिस एक्ट 1961 के अन्तर्गत वर्ष 2017-18 केलिए एक्ट प्रशिक्षुओं (ट्रेंड अप्रेंटिस) के चयन।
सेवानिवृत कर्मचारियों की पुनः नियुक्ति
Railway College Tundla
EOI Medial Kanpur
Provisional allotment of divisions to the Technicians of CEN No 01/2018
आरआरबी / आरआरसी पैनल के लिए डिवीजन आवंटन
Walk-in-Interview for Doctors o­n 28.04.2020
रेलवे सुरक्षा बल मे कांस्टेबल(बैंड) की भर्ती
वाक इन इंटरव्यू अंशकालिक दन्त चिकित्सक हेतु
सहायक लोको पायलट मंड्ल आवंट्न
खेल कूद कोटे के अंतर्गत भर्ती -2016-17
आर आर बी चयनित अभ्यर्थी का डिविजन आवंटन
रेलवे भर्ती सेल द्वारा भर्ती
संविदा के आधार पर चिकित्सकों की नियुक्ति
सामान्य विभागीय प्रतियोगी परीक्षा
राजभाषा पुस्तकालय
रेल संगम पत्रिका
प्रत्युष
ट्रेन दुर्घटना के बारे में सार्वजनिक जानकारी
ट्रेन दुर्घटना पूछताछ रिपोर्ट
 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
28-07-2020
महाप्रबंधक उत्तर मध्य एवं उत्तर रेलवे श्री राजीव चौधरी की अध्यक्षता में उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय में क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति की बैठक संपन्‍न हुई

उत्‍तर मध्‍य रेलवे

जनसम्‍पर्ककार्यालय

उत्‍तरमध्‍य रेलवे

प्रयागराज

पत्रांक: 11पीआर/05/2020प्रेस विज्ञप्ति                             दिनांक: 27.07.2020

 

महाप्रबंधक उत्तर मध्य एवं उत्तर रेलवे श्री राजीव चौधरी की अध्यक्षता में उत्तर मध्य रेलवे मुख्यालय में क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति की बैठक संपन्‍न हुई

उत्‍तर मध्‍य रेलवे मुख्‍यालय में महाप्रबंधक श्री राजीव चौधरी की अध्‍यक्षता में क्षेत्रीय राजभाषा कार्यान्‍वयन समिति की बैठक संपन्‍न हुई। आन लाइन बैठक में शामिल सभी अधिकारियों को संबोधित करते हुए महाप्रबंधक श्री चौधरी ने कहा कि राजभाषा की परंपरागत बैठक और उसमें होने वाली प्रत्यक्ष चर्चाओं और विचार-विमर्श का विशिष्ट महत्व होता है। लेकिन इस वैश्विक महामारी के कारण प्रत्यक्ष सामूहिक बैठकों और कार्यपद्धतियों में जो बदलाव आया है, उससे कार्यप्रणाली में भी महत्वपूर्ण बदलाव आएगा। उन्‍होंने कहा कि हमारी रेलवे ने इन अत्यंत विषम परिस्थितियों में पूरी मुस्तैदी, समर्पण और निष्ठा के साथ गाड़ियों के संचालन की गतिशीलता बनाए रखी है और हमारे रेलकर्मी कोरोना वायरस की इस भयावह महामारी के विरुद्ध योद्धा की भूमिका निभा रहे हैं। इस दौरान सभी वीडियो संदेश और निर्देश हिंदी में ही जारी किए हैं। चिकित्सा ,जनसंपर्क एवं अन्य विभागों द्वारा कोविड-19 से बचाव और रोकथाम के लिए जारी पोस्टर, दिशानिर्देश और सूचनाएं हिंदी में तैयार की गईं हैं। श्री राजीव चौधरी ने कहा कि महामारी के दौरान कार्यालयों में ई-आफिस का प्रयोग किया जा रहा है । ई-आफिस में हिंदी और अंग्रेजी दोनों का विकल्प है। उन्होनें सभी विभागों, मंडलों और कारखानों को ई-आफिस में उपलब्ध हिंदी में कार्य करने की सुविधा का, विकल्प नहीं,बल्कि संकल्प के तौर पर प्रयोग करने के निर्देश दिए, साथ ही इसमें हिंदी के मानक यूनिकोड फांट, मंगल फांट का ही प्रयोग करने की हिदायत दी। बैठक में भारतीय भाषा, संस्कृति और साहित्य के उन्नायक गोस्वामी तुलसीदास तथा उपन्यास एवं कहानी सम्राट प्रेमचंद की जयंती के उपलक्ष्य में आयोजित साहित्यिक संगोष्ठी में अपने विचार व्यक्त करते हुए महाप्रबंधक श्री राजीव चौधरी ने कहा कि गोस्वामी तुलसीदास और प्रेमचंद के साहित्य मानवता एवं उच्चादर्शों का संदेश देते हैं। ये दोनों ही महामानव ऐसे साहित्य सर्जक हैं, जिनकी रचनाएं कठिन और प्रतिकूल परिस्थितियों में उम्मीद की रोशनी दिखाती हैं तथा व्यक्ति और समाज का सम्यक पथ प्रदर्शन करती हैं। बैठक के प्रारंभ में महाप्रबंधक श्री राजीव चौधरी द्वारा गोस्‍वामी तुलसीदास और मुंशी प्रेमचंद के चित्र पर माल्‍यार्पण किया गया।

बैठक के प्रारंभ में मुख्‍य राजभाषा अधिकारी एवं प्रधान मुख्‍य वाणिज्‍य प्रबंधक श्री महेन्‍द्र नाथ ओझा ने समिति को अवगत कराया कि प्रयागराज में आयोजित माघ मेला के दौरान मेला क्षेत्र में स्थित उत्‍तर मध्‍य रेलवे के शिविर में राजभाषा के प्रयोग-प्रसार तथा महात्‍मा गाँधी के जीवन दर्शन एवं प्रेरक विचारों से संबंधित चित्र प्रदर्शनी लगाई गई। पिछली तिमाहियों में छह हिंदी कार्यशालाएं आयोजित की गईं और कंप्‍यूटर हिंदी कुंजीयन प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवधि के दौरान कई प्रसिद्ध साहित्‍यकारों की जयंतियों के अवसर पर साहित्यिक संगोष्ठियों का भी आयोजन किया गया।

इस अवसर पर मुख्‍य राजभाषा अधिकारी श्री एम.एन.ओझा ने गोस्‍वामी तुलसीदास और मुंशी प्रेमचंद के साहित्‍य के महत्वपूर्ण पक्षों पर परिचर्चा करते हुए कहा कि गोस्‍वामी तुलसीदास भारतीय साहित्य के संरक्षक थे और उन्होने जन-जन के हदय में राष्ट्र गौरव एवं राष्ट्रीय अस्मिता की पावन भावना का संभरण किया। श्री ओझा ने कहा कि तुलसी के रामराज्य में किसी भी प्रकार के दैहिक, दैविक एवं भौतिक संतापो और बाधाओं की व्‍याप्ति नहीं होती। रामराज्‍य की परिकल्‍पना नैतिक मूल्‍यों और सामाजिक मानदंडों से अनुप्राणित है। श्री ओझा ने कहा कि प्रेमचंद पहले वास्‍तविक कथा सम्राट हैं, क्‍योंकि इसके पूर्व तिलस्‍मी और ऐयारी प्रधान कथा साहित्‍य ही रचे जाते थे। प्रेमचंद का कथा साहित्‍य आदर्श से यथार्थ की ओर प्रस्‍थान का साहित्‍य है। प्रेमचंद का मानना था कि साहित्यिक सौंदर्य चेतना की कसौटी को बदलना चाहिए और साहित्‍यकारों को श्रम के स्‍वेद की महत्‍ता पर अपनी लेखनी चलानी चाहिए। श्री ओझा के अनुसार तुलसीदास और प्रेमचंद दोनों का साहित्‍य अन्‍याय और अत्‍याचार के वि‍रुद्ध उठाई गई सशक्‍त आवाज है।

बैठक में अपर महाप्रबंधक श्री रंजन यादव सहित सभी प्रधान विभागाध्‍यक्ष, मंडलों के अपर मंडल रेल प्रबंधक, कारखानों के मुख्‍य कारखाना प्रबंधकों एवं अन्‍य सदस्‍य अधिकारियों ने विडियो कान्फरेंस के माध्यम से भाग लिया। सभी अधिकारियों ने अपने-अपने कार्यालयों में हो रही राजभाषा प्रगति से महाप्रबंधक को अवगत कराया। बैठक का संचालन वरिष्‍ठ राजभाषा अधिकारी श्री चन्‍द्र भूषण पाण्‍डेय द्वारा किया गया तथा उप मुख्‍य राजभाषा अधिकारी श्री शैलेन्‍द्र कुमार सिंह ने धन्‍यवाद ज्ञापित किया।

 





  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.