Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे मे

भारतीय रेलवे कार्मिक

समाचार एवं भर्ती

निविदाओं और अधिसूचनाएं

प्रदायक सूचना

जनता सेवा

हमसे संपर्क करें

 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
11-01-2022

वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के अंत तक उत्तर मध्य रेलवे द्वारा सौर ऊर्जा से 94 लाख यूनिट बिजलीउत्सर्जित

सौर ऊर्जा से तीन तिमाहियों में रु 3.82 करोड़ की शुद्ध राजस्व बचत

इस दौरान 8000 टन कार्बन उत्सर्जन में कमी

प्रयागराज, कानपुर, आगरा, झांसी, अलीगढ़ और अन्य स्थानो पर रेलवे प्रतिष्ठानों में स्थित सौर संयंत्रों ने पिछले वर्ष की तुलना में प्रदर्शन में सुधार दर्ज किया है।

 

उत्कृष्ट रखरखाव, सौर ऊर्जा संयंत्र के संचालन की बहुत सघन मॉनिटरिंग और सौर मिशन-2021-22 के तहत किए गए अभिनव प्रयासों के कारण, उत्तर मध्य रेलवे में सौर संयंत्रों की उत्पादकता निरंतर बढ़ रही है।

उत्तर मध्य रेलवे ने वर्तमान वर्ष मेंअप्रैल-दिसंबर 2021 के दौरान सौर ऊर्जा का उपयोग करके 94 लाख यूनिट बिजली उत्पन्न की हैजबकि, अप्रैल-दिसंबर 2020-21 के दौरान सौर ऊर्जा से 81 लाख यूनिट बिजलीउत्सर्जित की गई थी। यह पिछले वर्ष की तुलना में 16% अधिक है। यह न केवल पर्यावरण संरक्षण की ओर एक तेज़ और बड़ा कदम है बल्कि ऊर्जा का एक हरित स्रोत होने के कारण इससे राजस्व में भी पर्याप्त बचत हुई है।

उत्तर मध्य रेलवे ने अप्रैल-दिसंबर 2021 के दौरान सौर ऊर्जा का उपयोग करके रु 3.82 करोड़ की शुद्ध राजस्व बचत हासिल की है।

वर्तमान में उत्तर मध्य रेलवे की कुल स्थापित क्षमता 11.03 मेगावाट है। इसमे से 120kWpरेलवे द्वारा स्थापित किया गया है, शेष 10882.34kWpक्षमता दो प्रमुख सौर ऊर्जा डेवलपर्स (SPD) Azure और ReNewद्वारा PPP आधार पर स्थापित की गई है।

स्टेशन भवन, कार्यशालाएं, ट्रेनिंग विद्यालय, महाप्रबंधक कार्यालय और मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय भवन आदि प्रमुख स्थानों पर रूफ टॉप सोलर प्लांट लगाए गए हैं ।

अप्रैल-दिसंबर के दौरान सौर ऊर्जा का उपयोग करके उत्तर मध्य रेलवे द्वारा कार्बन फुटप्रिंट में लगभग 8000 टन की कमी की गई है।

सौर संयंत्रों के प्रदर्शन का एक महत्वपूर्ण पैरामीटर कैपेसिटी यूटिलाइजेशन फैक्टर (सीयूएफ) है। उक्त अवधि के दौरान उत्तर मध्य रेलवे के सौर पैनलों ने 12.9 प्रतिशत का सीयूएफ दर्ज हुआ है। यह एक सराहनीय प्रदर्शन है।

'सौर मिशन-उत्तर मध्य रेलवे ' के तहत, उत्तर मध्य रेलवे ने 2021-22 के लिए 1.3 करोड़ यूनिट की उच्चतम सौर ऊर्जा उत्पन्न करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है।इससे लगभग 5 करोड़ रुपये की बचत होगी, जो कि पिछले वर्ष की तुलना में एक करोड़ रुपये अधिक है।

 

महाप्रबंधकउत्तर मध्य रेलवे श्री प्रमोद कुमार ने अपनी कुल गैर-कर्षण विद्युत ऊर्जा खपत में सौर ऊर्जा की हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए प्रयास करने का आह्वान किया है।

सौर ऊर्जा के प्रयोग के संवर्धन के लिए प्रयासरत प्रमुख मुख्य बिजली इंजीनियर उत्तर मध्य रेलवे  श्री सतीश कोठारीने बताया कि सौर संयंत्रों के रखरखाव को अत्यधिक महत्व दिया जा रहा है। इसके लिए उठाए गए कुछ कदम इस प्रकार हैं:

• प्रत्येक संयंत्र में इनवर्टर वार सौर ऊर्जा उत्पादन की मॉनिटरिंग की जा रही है।

• संयंत्रों की ऊर्जा और सीयूएफ % की मासिक के स्थान पर दैनिक मॉनिटरिंग की जा रही है।

• छत की मरम्मतइनवर्टरकेबल आदि के कारण खराब संयंत्रों को ठीक किया गया है।

• सौर पैनलों की गुणवत्तापूर्ण सफाई पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

• सौर संयंत्रों के निकट सूर्य की किरणों को अवरोधित करने वाले पेड़ों की छंटाई।

• अनुरक्षण कर्मचारियों की ट्रेनिंग और संवेदीकरण के लिए25प्वाइंट सोलर मिशन रेडी रेकनर सचित्र रूप में जारी किया गया।

• हिंदी में25विषयों पर तकनीकी और व्यावहारिक उपयोगी वीडियो क्षेत्रीय पर्यवेक्षकों के ज्ञानवर्धन के लिए जारी किए गए हैं।

• ऊर्जा और अन्य महत्वपूर्ण डेटा के व्यवस्थित प्रलेखन और मॉनिटरिंग के लिए एस.एस.ई को सोलर डायरी की प्रणाली की शुरुआत की गई।

भविष्य की योजना :

स्वर्णिम डायगनल एवं स्वर्णिम चतुर्भुज के अंतर्गत आने वाले रेल मार्गों (लगभग1320एकड़) के साथ उपलब्ध खाली भूमि पर 249 मेगावॉटरेलवे स्टेशनों (लगभग185एकड़) के पास खाली भूमि पर46.25मेगावाटविभिन्न भवनों कीछत के ऊपर1.86मेगावाट सौर ऊर्जा संयंत्रों की उत्तर मध्य रेलवेपरिक्षेत्र मे रेलवे एनर्जी मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड (आरईएमसीएल) द्वारा स्थापना की कार्योजना पहले ही बना ली गई है।

अप्रैल-दिसंबर 2021-22 के दौरान रेलवे सौर संयंत्रों का स्थानवार प्रदर्शन:

प्रयागराज क्षेत्र:

1. कुल स्थापित क्षमता- 1771KWP

2. स्थान: प्रयागराज स्टेशन, नैनी स्टेशन, प्रयागराज छिवकी स्टेशन, मेला शेड, महाप्रबंधक कार्यालय, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय और केंद्रीय अस्पताल

3. सौर ऊर्जा उत्सर्जन: 1567893 Kwh (अप्रैल-दिसंबर 2020 में -1460979 Kwh उत्सर्जन)

4. राजस्व बचत: रुपये5094162/-

5. कार्बन फुटप्रिंट में कमी: 1317 टन

 

कानपुर क्षेत्र:

1. कुल स्थापित क्षमता- 875.59 KWP

2. स्थान: कानपुर सेंट्रल, इलेक्ट्रिक लोको शेड, इलेक्ट्रिक ट्रेनिंग सेंटर, रनिंग रूम, सीईटीए स्कूल और हॉस्टल, नया कोचिंग कॉम्प्लेक्स और ऑफिसर्स रेस्ट हाउस

3. सौर ऊर्जा उत्सर्जन: 731600 Kwh (अप्रैल-दिसंबर 2020 में- 618299 Kwh उत्सर्जन)

4. राजस्व बचत: रुपये2145127 /-

5. कार्बन फुटप्रिंट में कमी: 614.54 टन

अलीगढ़ क्षेत्र:

1. कुल स्थापित क्षमता- 182 KWP

2. स्थान: अलीगढ़ जंक्शन, रिटायरिंग रूम

3. सौर ऊर्जा उत्सर्जन: 161 655 किलोवाट (अप्रैल-दिसंबर 2020 में - 86825 Kwhउत्सर्जन)

4. राजस्व बचत: रुपये504363/-

5. कार्बन फुटप्रिंट में कमी: 136 टन

टूंडला:

1. कुल स्थापित क्षमता- 350 KWP

2. स्थान: टूंडला जंक्शन

3. सौर ऊर्जा उत्सर्जन: 274338 किलोवाट (अप्रैल-दिसंबर 2020 में - 218133 Kwhउत्सर्जन)

4. राजस्व बचत: रुपये850447/-

5. कार्बन फुटप्रिंट में कमी: 230 टन

झांसी क्षेत्र:

1. कुल स्थापित क्षमता- 331.1 KWP

2. स्थान: मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय, रेलवे अस्पताल और इलेक्ट्रिक लोको शेड

3. सौर ऊर्जा उत्सर्जन: 313171 किलोवाट (अप्रैल-दिसंबर 2020 में- 96674 Kwhउत्सर्जन)

4. राजस्व बचत: 1033464 रु

5. कार्बन फुटप्रिंट में कमी: 263 टन

आगरा क्षेत्र:

1. कुल स्थापित क्षमता- 1026.33 KWP

2. स्थान: आगरा कैंट, आगरा फोर्ट स्टेशन, रेलवे अस्पताल, रनिंग रूम, ईदगाह स्टेशन, मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय और सिक लाइन

3. सौर ऊर्जा उत्सर्जन: 778825 Kwh (अप्रैल-दिसंबर 2020 में 619281 Kwh उत्सर्जन)

4. रेवेन्यू बचत: 4926790 रुपये

5. कार्बन फुटप्रिंट में कमी: 654 टन

मथुरा क्षेत्र:

1. कुल स्थापित क्षमता- 382.94 किलोवाट

2. स्थान: मथुरा जंक्शन और दूसरा प्रवेश द्वार

3. सौर ऊर्जा उत्सर्जन: 324949 Kwh (अप्रैल-दिसंबर 2020 में 225239 Kwh उत्सर्जन)

4. राजस्वबचत: रु 1361536

5. कार्बन फुटप्रिंट में कमी: 273 टन

 

 






  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.