Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

भारतीय रेलवे कार्मिक

समाचार एवं भर्ती

निविदाओं और अधिसूचनाएं

प्रदायक सूचना

जनता सेवा

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
याँत्रिक डीजल

यांत्रिक (डीजल)

संगठन

राजपत्रित -

वरिष्ठ मंडल यांत्रिक इंजीनियर/ डीजल - श्री हरीश कुमार                           

                       सहायकमंडल यांत्रिक इंजीनियर/ डीजल - श्री सचिन जैन                              

                       सहायकमंडल यांत्रिक इंजीनियर/ डीजल - श्री ऋतुराज सिंह                              

                       सहायक सामग्री प्रबंधक/ डीजल               - श्री अरुण मौर्य                                  

IMG_8303डीजललोको शेड झांसी उत्तर मध्य रेलवे का एकमात्र प्रमुख डीजल लोको शेड है जोमेल/एक्सप्रेस, यात्री, माल और शंटिंग सेवाओं की यातायात आवश्यकताओं कोपूरा करता है।शेड ने अप्रैल 2021 में राष्ट्र की सेवा में 46 गौरवशाली वर्ष पूरे कर लिए हैं।

                             

 01.07.2021 की स्थिति के अनुसार, शेड की होल्डिंग 161 लोकोमोटिव की है जिसका विवरण निम्नहै

डीजल लोको

डब्ल्यू.डी.एम.3

14 लोकोमोटिव

डब्ल्यू.डी.जी.3

35 लोकोमोटिव

डब्ल्यू.डी.एम.3 डी

29 लोकोमोटिव

डब्ल्यू.डी.एस.6     

13 लोकोमोटिव

डब्ल्यू.डी.जी.4

09 लोकोमोटिव

डब्ल्यू.डी.जी.4डी

09 लोकोमोटिव

डब्ल्यू.डी.पी.4डी

14 लोकोमोटिव

इलेक्ट्रिक लोको

डब्ल्यू..जी-7

38 लोकोमोटिव

कार्य योजना की मुख्य विशेषताएं और अन्य उपलब्धियां

1.1 प्रणाली में सुधार के लिए कार्य योजना

गूगलड्राइव के माध्यम से नियमावली, रखरखाव साहित्य ऑनलाइन साझा करना।

व्हीलवियर पर रखरखाव प्रथाओं, समस्याओं और आक्जीलियरी पावर यूनिट (एपीयू) की समस्यानिवारण, चालक दल द्वारा कुप्रबंधन के मामलों आदि पर ज्ञान साझा करने वालेसेमिनार।

कार्य निर्देश जारी करना

गुणवत्ता ऑडिट

विफलता प्रवण क्षेत्रों के लिए विश्वसनीयता में सुधार के लिए विभिन्न अभियान।

1.2 हाइलाइट्स और अन्य उपलब्धियां

1.2.1 डीजल शेड में विधुत इंजनों का अनुरक्षण

2019-20 और 2021-22 में 25 डीजल इंजनों को कंडम किया गयाहै और कुल 38 WAG7 इलेक्ट्रिक इंजनों को डीजल शेड झांसी होल्डिंग में स्थानांतरित किया गयाहै।

प्रारंभ में 25 इंजनों को सितंबर'20-नवंबर'20 से इलेक्ट्रिक लोको शेडझांसी से डीजल शेड झांसी में स्थानांतरित किया गया था और इन इंजनों के माइनरशेड्यूल सितंबर'20 से शुरू किए गए हैं।

मार्च'21 में 03 और इंजनों को स्थानांतरित किया गया और 29.06.21 को 10 और लोको को स्थानांतरित किया गया।अब इलेक्ट्रिक लोको होल्डिंग 38 लोको की है।

डीजल लोको शेड झांसी में अब तक 90 माइनरशेड्यूल तथा 03 मेजर शेड्यूल (टीओएच) किये जा चुके हैं ।

1.2.2 आक्जीलियरी पावर यूनिट (एपीयू)फिट इंजनों में ईंधन तेल की बचत

आक्जीलियरी पावर (.पी.यू)अपने स्वयं के छोटे डीजल इंजन के साथ कम क्षमता वालेकंप्रेसर और अल्टरनेटर के साथ एक स्व-निहित प्रणाली है।एपीयूका कार्य है - मेन रिजर्वायर के दबाव को बनाएरखना, बैटरी चार्ज करना, ड्राइवर केबिन एचवीएसी सिस्टम और अन्य छोटे भार को संचालित करना जब लोकोयार्ड में निष्क्रिय स्थिति में हो। मुख्य इंजन केवल तभी शुरू किया जाता हैजब लोकोमोटिव वास्तव में कर्षण के लिए आवश्यक होता है। एपीयूके साथ एचएसडी तेल की काफी प्रत्यक्ष बचत होती है और अनावश्यक निष्क्रियताके दौरान मुख्य इंजन के टूट-फूट से बचने के माध्यम से अप्रत्यक्ष बचत होतीहै।

अप्रैल'20 से मार्च'21 तक 2020-21 में APU के साथ लगे इंजनों के माध्यम से HSD तेल की बचत 99.66 KL (लागत 66.55 लाखरुपये) और अप्रैल'21 से जून'21 तक 24.84 KL (लागत रु. 16.64 लाख)हुई है ।

1.2.3 डीजल शेड के RDI  से ईंधन के इशू में कमी

वर्ष

2019-20

2020-21

2021-22 (जून तक)

जारी किया गया ईंधन (KL . में)

2608.315

1223.650

153.250

1.2.4 स्क्रैप निपटान

लक्ष्य 2020-21

(मीट्रिक टन)

स्क्रैप का निपटारा 2020-21

(मीट्रिक टन)

लक्ष्य 2021 -22

(मीट्रिक टन)

स्क्रैप का निपटारा में

2021-22 अब तक(मीट्रिक टन)

300

594.938

300

668.137

1.2.5 वार्षिक प्रत्याशित खपत (..सी)के संशोधन के माध्यम से बचत

जिस मद में बचत की गयी

बचत (करोड़रुपये में)

2020-21

2021-22

डीजल शेड झाँसी में स्टॉक मदों के एएसी का संशोधन

12.42 करोड़रुपये

2.33 करोड़रुपये

संपूर्ण

14.75 करोड़रुपये

1.2.6 आरएसपी मदों को ड्रापकरने से बचत:

शेड नेआरएसपी के निष्क्रिय/लंबित मामलों के कुल 22 नगों को ड्रापकर निरपवाद रूप से 13.75 करोड़ रुपयेकी पूंजी की बचत की है

1.3 प्रणाली में सुधार

विफलताओं को कम करने और इंजनों की विश्वसनीयता में सुधार करने के लिए, विभिन्न अभियानशुरू किए गए हैं।चल रहे ड्राइव का विवरण इस प्रकार है: -

मानसून की तैयारी अभियान

टाई रॉड्स के सभी वेल्डिंग जोड़ की जाँच करना और पुल रॉड में स्प्लिट पिन की जाँच करना।

इंजनों में दोनों साइड बफ़र्स की टाइटनेस की जाँच करना

सीबीसी पिन रिटेनिंग प्लेट फास्टनरों, रिटेनिंग पिन, सेफ्टी सी क्लैम्प्स और ड्राफ्ट गियर की स्थिति की जांच करना।

सीबीसी कपलर और क्लेविस की जांच करना।   

स्क्रू कपलिंग थ्रेड्स और पिच के घिसावट की स्थिति की जाँच करना।

गियर केस बोल्ट की टाइटनेस की जाँच, पुल रॉड सेफ्टी क्लैंप बोल्ट की टाइटनेस।

सस्पेंशन/रोलर बेयरिंग हाउसिंग बोल्ट्स की टाइटनेस की जाँच करना।

कैटल गार्ड बोल्ट की टाइटनेस की जाँच करना।

एचएचपी इंजनों में फ्लैशर लाइट के फ्यूज की जांच करना।

फ्लैशर लाइट, हेड लाइटफोकस और मार्कर लाइट की कार्यप्रणाली की जांच करना।

इंजनों में ओवरड्यू बैटरियों को बदलना।

एचएचपी लोको में स्टार्टिंग मोटर के कार्बन ब्रश की जांच

स्पीडोमीटर/इंडिकेटर की कार्यप्रणाली की जांच करना।

सभी ALCO इंजनों के A9, SA9 हैंडल और पिन की जाँच करना।





Source : CMS Team Last Reviewed on: 06-08-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.