Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter Find us on Youtube View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

भारतीय रेलवे कार्मिक

समाचार एवं भर्ती

निविदाओं और अधिसूचनाएं

प्रदायक सूचना

जनता सेवा

हमसे संपर्क करें

सूचनायें
अधिकारी विश्राम गृह
सूचना अधिकार अधिनियम की धारा ४(१)ब के अन्तर्गत सूचनांएँ
sachh bharat abhiyan 2020
e_offie
प्रशासन
कार्मिक
E-office Application
वाणिज्य
चिकित्सा
संरक्षा
याँत्रिक विभाग
विद्युत
सूचना प्रौ.
परिचालन
सुरक्षा
सि.व दूरसंचार
Station diagram
इंजीनियरी
लेखा विभाग
रिटायडर्ट रेलवे कर्मचारियाें के पुन रेल सेवा में लेने के लिये नाेटिफिकेशन
Rashtriya Ekta Diwas (National Unity Day) Celebrations
साप्ताहिक पुरूस्कार
राजभाषा


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
भण्डार

भण्डार विभाग

1.0)    प्रस्तावना- भण्डार विभाग एक महत्वपूर्ण शाखा है तथा झॉसी मण्डल के दिन प्रतिदिन के कार्यो में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। भण्डार विभाग ( सामग्री प्रबंधन विभाग ) सक्रिय रुप से विभिन्न प्रकार की महत्वपूर्ण सामग्री की खरीद प्रक्रिया को पूरा करता है। सभी प्रकार की सामग्री  (सामान्य प्रकार व जटिल प्रकार ) को भण्डार विभाग द्वारा IREPS/GeM के माध्यम से उपलब्ध कराया जाता हैं। इसके अलावा भण्डार विभाग द्वारा सामान्य प्रकृति की सेवाओं  की खरीद GeM के माध्यम से तथा रद्दी सामग्री का निपटान IREPS के e-Auction  मॉड्यूल के माध्यम से किया जाता है। विभिन्न प्रकार की जटिल सामग्री जो कि चल स्टॉक { (Rolling Stock)  जैसे कोच, मालगाडी डिब्बा (Wagon) लोकोमोटिव }, संकेत प्रणाली, विद्युत कर्षण व वितरण, सामान्य विद्युत आदि से सम्बंधित होती है को नॉन स्टॉक मॉगपत्र के अनुसार उपलब्ध कराया जाता है। इस प्रकार भण्डार विभाग विभिन्न प्रकार की सामग्री की खरीद प्रक्रिया व रद्दी सामग्री के निपटान की प्रक्रिया में अपनी भागीदारी निभाकर झॉसी मंण्डल के दिन प्रतिदिन के कामकाज में महत्वपूर्ण उत्तरदायित्व का निर्वाह कर रहा है। 

2.0)    भण्डार विभाग का मंण्डलीय संगठनात्मक ढॉचा - भण्डार विभाग की मंडलीय शाखा का संचालन स0 मं0 सा0 प्र0 की सहायता से वरि0 मं0 सा0 प्र0 द्वारा किया जाता है। वर्तमान में इन पदों पर नीचे इंगित अधिकारी पदस्थ है।

वरि0 मंडल सामग्री प्रबंधक

अमित कुमार

सहा0 मंडल सामग्री प्रबंधक

सत्य प्रकाश शाक्या

उपरोक्त अधिकारियों को नीचे दिये गये विवरण के अनुसार एक प्रोक्योरमेंट व स्क्रेप डिस्पोजल टीम द्वारा सहायता प्रदान की जाती है।        

क्र

पद

संख्या

01

मु0 कार्या0 अधी0

01

02

कार्या0 अधी0

02

03

डिपो सा0 अधी0

03

04

स्टेनो

01

05

मुख्य टाइपिस्ट

01

06

वरि0 लिपिक

02

07

कनि0 लिपिक

01

08

ग्रप डी

06

 

कुल

17

 

   3.0)  सामग्री व सेवाओं की खरीद (प्रक्योरमेंट) - भण्डार विभाग/झॉसी मंण्डल नॉन स्टॉक मदों/सामग्री को समय पर उपलब्ध कराने का अथक प्रयास करता है। इसके साथ-साथ उपभोगकर्ता विभागों कीजरुरतों की महत्वता को ध्यान में रखा जाता है। एक लाख रुपये तक की लोकल खरीद तथा पचास लाख रुपये तक की नॉर्मल खरीद (Normal purchase) , भण्डार विभाग की मंडलीय शाखा द्वारा की जाती है। सामग्री व सेवाओं की खरीद IREPS Gem के ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से की जाती है। भण्डार विभाग की झॉसी मंडलीय शाखा ने 01.04.2020 से 31.03.2021 की अवधि में कुल रु0 11.96 करोड मूल्य के क्रयादेश जारी किये है।

Department

Last year Receipt (2020-21) in MT

Current year receipt Up to 15 .Aug. 21  (2021-22) in MT

Target (MT)

Receipt (till March-21)

Target (MT)

Receipt (Till 15. Aug.21)

Engineering

8500

11595.00

12000

2856.269

Construction

-

112

-

-

TMD

-

-

-

-

Mechanical

-

1513.853

-

906.136

Electrical OHE

-

400

-

-

A.C. LOCO

-

88.567

-

-

Total

-

13709.42

-

3762.405







4.0)    स्क्रेप सामग्री का निपटान - स्क्रेप सामग्री के निपटान की महत्वपूर्ण प्रक्रिया मुख्यतः दो गतिविधियों को सम्मिलित करती है। पहली गतिविधि "स्क्रेप सामग्री को चिन्हित करना व संग्रहण करना" है तथा दूसरी गतिविधि "IREPS के e-Auction Module (e-ऑक्शन मोडयूल) के माध्यम से निपटारा करना है। भण्डार विभाग की स्क्रेप डिस्पोजल टीम समय-समय पर रद्दी सामग्री को चिन्हित करती है तथा उसके संग्रहण की प्रक्रिया में तेजी लाने का कार्य करती है। पिछले वित वर्ष तथा वर्तमान वित्त वर्ष में 15- अगस्त-2021 तक  अंत तक, निपटारें के लिये प्रस्तुत सामग्री का विवरण निम्न प्रकार है।   

 स्क्रेप

सामग्री के पिछले वित्त वर्ष एवं वर्तमान वित्त वर्ष (15.08.2021 तक) का निपटारा सम्बंधी विवरण नीचे दिया गया है।

Department

2020-21 (Up to March-21)

2021-22 (Up to 15-08-2021)

Qty

Unit

Amount in Lakh

Qty

Unit

Amount in Lakh

P.Way scrap

12737.876

MTs

3531.099

4134.031

MTS

1587.91

Overage Coach

46

Nos

269.956

4

Nos

37.431

Accidental Coach

-

Nos

-

-

Nos

-

Accidental Wagon

-

Nos

-

-

Nos

-

Loco

14

Nos

505.856

4

Nos

250.100

Other

477.864

MTS

120.567

124.060

MTS

47.700

Total

4427.477

 

 

1923.145

 

5.0)    नई उपलब्धियॉ-

- EMD को लौटाने की ऑनलाइन प्रक्रिया का शत-प्रतिशत अनुपालन।

- GeM (Government e-Market Place)  के माध्यम से अधिकाधिक खरीद की गई। वर्तमान वित्तवर्ष के प्रथम चतुर्थांश में कुल खरीद का 66.5 प्रतिशत मात्रा,GeM  के द्वारा की गई जबकि पिछले वित वर्ष में इसकी मात्रा 49.51 प्रतिशत थी। इसी के साथ -साथ झॉसी मण्डल की भण्डार शाखा ने सामान्य प्रकार की सेवाओं के सम्बंधित कुल 27 क्रयादेश भी सितम्बर-2020 से जुलाई-2021 तक जारी किये है, इन सामान्य सेवाओं से सम्बंधित GeM के माध्यम से जारी किये क्रयादेशों का कुल मूल्य रु 339 लाख रहा है।

- ऑनलाइन नॉन स्टॉक मॉगपत्रों को iMMS द्वारा जारी करने की प्रक्रिया का कार्यान्वयन।

- बिक्री जारी करने के आदेशों में ऑनलाइन संशोधन पत्रों को जारी करने की प्रक्रिया का कार्यान्वयन अप्रेल-2021 से किया गया।

 

6.0)    विक्रेता उत्थान प्रकोष्ठ- रेलवे बोर्ड के ओदेशों के अनुरुप, एक विक्रेता उत्थान प्रकोष्ठ का शुभारभ्भ श्री संदीप माथुर, मं0 रे0 प्र0/झॉसी द्वारा दिनांक 13.01.2021 को किया गया। RDSO नियंत्रित 40 जटिल मदों (सामग्री) को इस विक्रेता उत्थान प्रकोष्ठ में प्रदशित किया गया है। यहॉ पर उन मदों को प्रदर्शित किया गया है जिनके लिये अभी कम संख्या में अनुमोदित विक्रेता उपलब्ध है।




Source : CMS Team Last Reviewed on: 17-08-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.